हमारे अवचेतन मन की कुछ जादुई बातें

Do We Really Use Only 10 Percent of Our Brain? | Britannica
ALL PICS SOURCE FROM GOOGLE

अवचेतन मन या सबकॉन्शियस माइंड की शक्ति हर क्षेत्र में नापी जा सकती है यह हमें प्रेरित करने और हमारा मार्गदर्शन करने में बहुत सहायक होता है हमारा सबकॉन्शियस माइंड हर तरह के यानी विभिन्न प्रकार की यादें और बातें दिमाग में एक मेमोरी कार्ड की तरह ही सब कुछ इसमें स्टोर रहता है

Superconducting neurons could match the power efficiency of the brain | MIT  Technology Review

हमारा सबकॉन्शियस माइंड हमारे हृदय की धड़कन और रक्त का सरकुलेशन करने में भी सहायक करता है यहां हमारे डाइजेशन, समावेश और उसका निष्कासन में भी मदद करता है जब हम कुछ खाते हैं तो उस स्थिति में हमारा सबकॉन्शियस माइंड भोजन को टिशू, मसल और ब्लड में परिवर्तित करता है हमारा सबकॉन्शियस माइंड हमारी बॉडी पर पूरी तरह से कार्य करता है।

यह शक्तिशाली सोचने और समझने की शक्ति को दो से 4 गुना तक बढ़ा सकता है और इसके लिए हमें अपने मस्तिष्क पर काम करने की आवश्यकता होती है। जब हम सो भी रहे होते हैं तो यह तब भी कार्य कर रहा होता है

8 Ways to Care for Your Amazing Brain - Mindful

इसके पास हमारे सारे सवालों के जवाब उपस्थित होते हैं जो हमने कहीं से भी एकत्र किए होते हैं हम अपने इस सबकॉन्शियस माइंड में जो भी बात जिस तरह से भी डालते हैं सारी बातें उसी तरह से समझता भी है यानी हम अपने अंदर क्रोध, ईर्ष्या, प्रेम इन सारी भावनाओं को अपने सबकॉन्शियस माइंड द्वारा बढ़ा या घटा सकते हैं

हमारे दिमाग में जिस तरह के विचार चल रहे होते हैं उसी के आधार पर हमारे कार्य होते हैं यानी कि हर छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी बात सब कुछ हमारे दूसरे मस्तिष्क के भाग यानी सबकॉन्शियस माइंड पर हर तरह से प्रभाव डालता है

यह हम पर निर्भर करता है कि हमें उस पर कैसा प्रभाव डलवाना है और फिर उसके बाद उसी तरह से उसको लेता है अमेरिकी फिलॉस्फर RALPH WALDO EMERSON का कहना है कि “व्यक्ति वह है जो भी वो पूरे दिन सोचता है”

11 Interesting Facts About the Subconscious Mind

अलग-अलग महापुरुषों ने इसे डिस्क्राइब करते हुए इसे बहुत शक्तिशाली बताया है “हमारी गतिविधियों और भावनाओं में मेल खाना बहुत जरूरी है जैसे कि हमारी बॉडी और माइंड का मेल खाना जरूरी है “

जीवन को चलाने के लिए यह नियम सबकॉन्शियस माइंड के के द्वारा बहुत ही उपयुक्त है दूसरे शब्दों में यह भी कहा जा सकता है कि यह जीवन का अद्भुद नियम है

Published by Kirti Dixit

I am human being like you!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: